Wednesday, September 10, 2014

बालों की देखभाल के लिए........... इनको अपना के देखों

  बालों की देखभाल के लिए............                  



                आपके बाल आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में काफी कुछ बता सकते हैं। हालांकि, आज कल के तनाव, साइज़ ज़ीरो बनने की होड़ में उस तरीके का संचालित खाना, हार्मोनल बदलाव, बालों पर कई तरह के उत्पादों का प्रयोग और कई अन्य कारणों से अपने सर पर स्वस्थ बालों को संभालना आसान बात नहीं है। 

त्वचा की तरह बालों की देखभाल के लिए क्लींजिंग, कंडीशनिंग और स्ट्रेंगथनिंग की जाती है और कुछ घरेलु देखभाल की मदद से इसे पाया जा सकता है। 

क्लींजिंग: 1. सबसे असरदार घर में बनाये जाने वाला शैम्पू रीठा, शीकाकाई और आमला का मिक्सचर है। इन सब को बराबर मात्रा में करीबन १ लीटर पानी में रात भर भिगो कर रखें। अगले दिन इस मिक्सचर को तब तक उबालें जब तक यह आधा न हो जाए। इसके बाद इसे ठंडा कर लें। 

2. अगर सर में जुएं हो गयी हों तो टी ट्री तेल काफी असरदार साबित हो सकता है। छोटे बच्चों के माँ बाप इस शैम्पू का इस्तमाल उन शैम्पू से बचने के लिए कर सकते हैं जिनमें कर्कश केमिकल का इस्तमाल होता है। इस तेल का इस्तमाल उलझे हुए बालों को सुलझाने के लिए भी किया जा सकता है। यह बालों को नमी देता है और सर को बैक्टीरिया और फंगल समस्या से निदान दिलाता है।

 कंडीशनिंग: 1. आधा कप मेयोनीज़ से बालों में मसाज करें और इसे प्लास्टिक बैग से १५ मिनट तक ढक कर रखें। शैम्पू करने से पहले बालों को धो लें। 

2. जिन लोगों के बाल रूखे हैं उन्हें सर पर गुलाबजल से मसाज करना चाहिए क्योंकि यह रूखे बालों का उपचार करने में काफी कारगर साबित होता है। ओलिव आयल और मधु को पके पपीते में मिलाकर अपने बालों में लगाएं। एक घंटे बाद बालों में शैम्पू कर लें।

 3. जिन लोगों के बाल तैलीय हैं उन्हें मुल्तानी मिटटी, आमला, रीठा और शिकाकाई के मिक्सचर का प्रयोग करना चाहिए। ४० मिनट बाद बालों में शैम्पू कर लें। 

4. पुदीने का तेल बालों की देखभाल में काफी उपयोगी साबित होता है क्योंकि यह सर को ठंडा करने में मदद करता है और सर से रुसी और जुओं को भी भगाता है। यह बालों को कंडीशन भी करता है। पुदीने का तेल तैलीय बाल को सामान्य बनाता है। यह ऑयली बालों के लिए एस्ट्रिंजेंट का काम करता है।

 5. ताज़ा मेथी के पत्तों का लेप रोज़ नहाने से पहले सर पर लगाने से बाल बढ़ते हैं, उसका रंग बरकरार रहता है, बाल सिल्की रहते हैं और रूसी से निजात मिलता है। 

स्ट्रेंगथनिंग: 1. केले में खनिज पदार्थ होता है जो बालों को बढ़ने और उसे बचाने में कारगर साबित होता है। सूखे, डाई किये और पर्म किये हुए बालों के लिए बनाना मास्क काफी मददगार साबित होता है।

 2. बालों के गिरने की समस्या से निजात पाने के लिए सलाद का जूस इस्तमाल में लाया जा सकता है।

 3. बालों के झरने की समस्या से बचने के लिए अरंडी का तेल इस्तमाल करना चाहिए। कई लोगों का मानना है कि यह खोये हुए बालों को वापस लाने में कारगर साबित होता है। 

4. लैवेंडर सर पर बालों को बढ़ने में मदद करता है, बालों में तेल के निर्माण को नियंत्रित करता है और सर पर फिर से बालों को आने में मदद करता है। दही कंडीशनर और क्लींजिंग में मदद करता है।